Insurance क्या है,कितने तरह की Insurance Policy होता हैं?How many types of insurance are there?

Insurance future में किसी नुकसान की आशंका से निपटने का हथियार है। हमें नहीं पता कि कल क्या होगा, इसलिए हम insurance policy के जरिये भविष्य में संभावित नुकसान की भरपाई की कोशिश करते हैं।

Insurance का मतलब जोखिम से सुरक्षा है।अगर कोई Insurance company किसी व्यक्ति का Insurance करती है तो उस व्यक्ति को होने वाले आर्थिक नुकसान की भरपाई Insurance company करेगी।

Insurance क्या है,कितने तरह की Insurance Policy होता हैं?
Insurance क्या है,कितने तरह की Insurance Policy होता हैं?

इसी तरह अगर Insurance company ने किसी कार, घर या smart Fone का Insurance किया है तो उस चीज के टूटने, फूटने, खोने या Damage होने की स्थिति में Insurance company उसके मालिक को पहले से तय शर्त के हिसाब से मुआवजा देती है।

Insurance वास्तव में Insurance company और बीमित व्यक्ति के बीच एक अनुबंध है। इस Contract के तहत Insurance company बीमित व्यक्ति से एक निश्चित धनराशि ( premium) लेती है और बीमित व्यक्ति या कंपनी को policy की शर्त के हिसाब से किसी नुकसान की स्थिति में Damage का देती है।

बीमा (Insurance) कितने तरह का होता है? 

  • Insurance दो तरह का होता है: 


  1. जीवन बीमा (Life Insurance)
  2. साधारण बीमा (General Insurance) 


Life insurance में किसी इंसान की जिंदगी का Insurance किया जाता है।Life insurance ( जीवन बीमा): जीवन बीमा ( Life Insurance) का मतलब यह है कि Insurance policy खरीदने वाले व्यक्ति की मृत्यु होने पर उसके आश्रित को Insurance company की तरफ से मुआवजा मिलता है. 

अगर परिवार के मुखिया की असमय मृत्यु हो जाती है तो घर का खर्च चलाना मुश्किल हो जाता है। परिवार के मुख्य व्यक्ति की पत्नी/बच्चे/माता-पिता आदि को आर्थिक संकट से बचाने के लिए जीवन Insurance policy लेना जरूरी है।वित्तीय Planning में सबसे पहले किसी व्यक्ति को जीवन बीमा ( Life Insurance)Policy खरीदने का सुझाव दिया जाता है।

साधारण Insurance में Vehicles, home, animal, crop, health insurance आदि सभी शामिल हैं।घर का बीमा ( Home Insurance): अगर आप अपने घर का Insurance किसी साधारण Insurance company से कराते हैं तो इसमें आपके घर की सुरक्षा होती है।Insurance policy खरीदने के बाद अगर आपके मकान को किसी भी तरह का नुकसान होता है तो उसका Handing insurance कंपनी देती है।

आपके घर को किसी भी तरह के नुकसान से Coverage इस Insurance policy में शामिल है। घर को प्राकृतिक आपदा(Natural disaster) से हुए नुकसान में Fire, earthquake, celestial electricity, flood आदि की वजह से होने वाला नुकसान शामिल है। कृत्रिम आपदा में घर में चोरी होना, आग, लड़ाई-दंगे(Battle-riots) आदि की वजह से घर को हुआ नुकसान(Loss) शामिल है।

वाहन बीमा ( Motor Insurance): भारत में सड़क पर चलने वाले किसी Vehicle का Insurance कराना कानून के हिसाब से बहुत जरूरी है।अगर आप अपने वाहन का Insurance कराये बिना उसे रोड पर चलाते हैं तो आपको Traffic पुलिस जुर्माना कर सकती है. मोटर या वाहन Insurance policy के हिसाब से वाहन को हुए किसी भी नुकसान के लिए Insurance company मुआवजा देती है।अगर आपका वाहन चोरी हो गया या उससे कोई दुर्घटना हो गयी है तो वाहन Insurance policy आपकी काफी मदद कर सकती है।

वाहन Insurance policy का सबसे अधिक फायदा आपको तब होता है जब आपके वाहन से किसी व्यक्ति को चोट लग गई या किसी व्यक्ति की मौत हो गई हो। इसे थर्ड पार्टी इंश्योरेंस (Third Party Insurance) के तहत कवर किया जाता है। अगर आपके पास भी कोई Wheeler / tricycle Vehicle or car है तो उसका Insurance जरूर कराना चाहिए।

स्वास्थ्य बीमा ( Health Insurance): आजकल इलाज का खर्च बहुत तेजी से बढ़ रहा है।Health Insurance लेने पर बीमारी होने पर Insurance company इलाज का खर्च कवर करती है।Health insurance policy के तहत Insurance कंपनी किसी भी तरह की बीमारी होने पर इलाज पर खर्च होने वाली रकम देती है।किसी बीमारी पर होने वाले खर्च की सीमा आपकी स्वास्थ्य Insurance policy पर निर्भर करती है।

यात्रा बीमा ( Travel Insurance): Travel Insurance किसी यात्रा के दौरान होने वाले नुकसान से बचाती है।अगर कोई व्यक्ति किसी काम से या घूमने के लिए विदेश जाता हैं और उसे चोट लग जाती है या सामान गुम हो जाता है तो Insurance company उसे मुआवजा देती है।Travel insurance policy आपकी यात्रा शुरू होने से लेकर यात्रा खत्म होने तक ही वैध होता है।यात्रा Insurance policy के लिए अलग-अलग बीमा Companies की शर्त अलग-अलग हो सकती है।

फसल बीमा ( Crop Insurance): मौजूदा नियमों के हिसाब से कृषि लोन लेने वाले हर किसान को Crop Insurance खरीदना जरूरी है। Crop insurance policy के तहत फसल को किसी भी तरह का नुकसान होने पर Insurance company किसान को उसका मुआवजा देती है। फसल Insurance policy के तहत आग लगने, बाढ़ की वजह से या किसी बीमारी की वजह से फसल खराब होने पर Insurance company की तरफ से मुआवजा दिया जाता है।

Crop insurance policy की शर्त बहुत कड़ी होने और लागत के हिसाब से मुआवजा नहीं मिलने की वजह से अभी किसानों में फसल Insurance के प्रति बहुत उत्साह नहीं है।वास्तव में फसल खराब होने पर मुआवजा देने के लिए Insurance companies उस खेत के आसपास मौजूद सभी खेत का सर्वे करती हैं और मुआवजा तभी दिया जाता है जब अधिकतर किसानों की फसल को नुकसान पहुंचा हो।

कारोबार उत्तरदायित्व बीमा (Business Liability Insurance): 
Liability Insurance वास्तव में किसी Company के काम-काज या किसी उत्पाद से ग्राहक को होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए होता है। इस तरह की किसी स्थिति में Company पर लगने वाला जुर्माना और कानूनी कार्यवाही का पूरा खर्च Liability Insurance करने वाली Insurance company को उठाना पड़ता है।
Previous
Next Post »